Follow these gardening tips to save your garden plants in scorching heat of summer season | मई महीने के गार्डनिंग कैलेंडर पर इस तरह से करें अमल, झुलसाती गर्मी में अपने बगीचे के पौधों को ऐसे बचाएं


  • Hindi News
  • Women
  • Follow These Gardening Tips To Save Your Garden Plants In Scorching Heat Of Summer Season

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

यह अपने बगीचे में पौधों की सुरक्षा का समय है। मई के महीने में गुलमोहर, अमलतास, सावनी और प्लुमेरिया जैसे वृक्षों पर खूब फूल खिलते हैं। बेलों में मोगरा, चमेली, बोगनविलिया, बिग्नोनिया और आलामांडा (पीले फूल) अपने शबाब पर होते हैं। झाड़ियों में रुकमिणी, रात की रानी, चांदनी, गुड़हल के खिलने का समय है। यदि आपने अब तक इनकी पौध नहीं लगाई है तो अब भी पौध लगाने का यह उपयुक्त समय है।

गर्मियों में कैसे करें सिंचाई

इस वक्त तापमान काफी अधिक हो चला है। अब घर के पौधों को प्रतिदिन पानी देना जरूरी है। अधिक गर्मी हो तो दिन में दो बार भी पानी देना पड़ सकता है। यदि संभव हो तो झाड़ियों, लताओं और पेड़ों को पानी देने के लिए ड्रिप सिंचाई प्रणाली का उपयोग करें। इससे पानी की बचत के साथ सही तरह से उनकी सिंचाई भी हो जाएगी। शाम के समय पौधों के साथ उनके पत्तों पर भी पानी का छिड़काव करना चाहिए।

कैसे बरकरार रखें नमी?

मल्चिंग तकनीक से नमी को बरकरार रख सकते हैं। प्रकृति में मल्चिंग प्राकृतिक रूप से गिरी हुई पत्तियों, टहनियों, फूलों और अन्य सामग्रियों से होती है। ये प्राकृतिक मल्च मिट्टी के ऊपर एक सुरक्षात्मक आवरण बना देते हैं, जिससे नमी बनी रहती है। सूखे पत्तों, छाल या गोबर की खाद जैसे कार्बनिक पदार्थों का उपयोग मल्चिंग के लिए बेहतर है क्योंकि वे मिट्टी में पोषण जोड़ने के अलावा बेहतर वातायन और मिट्टी की कंडीशनिंग में भी योगदान देते हैं।

खरपतवार उथले जड़ वाले पौधों से नमी प्राप्त करते हैं, जिससे अन्य पौधे और पेड़ नमी से वंचित हो जाते हैं। इस अवांछित वनस्पति को हटा दिया जाना चाहिए। नमी बढ़ाने का एक उपाय यह भी है कि गमलों को एकसाथ समूह बनाकर रखें तथा उनके बीच एक टब या बाल्टी में पानी भरकर रख दें। इससे पौधों के आस-पास की हवा में नमी आएगी। इस महीने पौधों को रासायनिक खाद नहीं दें।

कीटों-रोगों से कैसे बचाएं?

गुलाब की झाड़ियों से नियमित रूप से जंगली टहनियां निकालते रहें। लॉन में इस महीने में 2 ग्राम/लीटर पानी में एनपीके 19:19:19 (ज्यादातर नर्सरी या खाद की दुकानों पर मिल जाता है) मिलाकर दो बार छिड़काव करें। गर्मियों में डहेलिया सहित गुलाब और कुछ अन्य इनडोर प्लांट के पत्तों पर ख़स्ता फफूंदी लग सकती है। पौधों पर मनकोजेब व कार्बेन्डेजिम नामक फफंूदीनाशकों को मिलाकर उसका छिड़काव (2 ग्राम/लीटर पानी) हर पंद्रह दिन में एक बार करें।

कैसे करें धूप से बचाव?

कुछ स्थायी पौधों जैसे क्रोटन के साथ-साथ मौसमी पौधों जैसे कैलडियम और ग्लॉक्सिनिया आदि को इस महीने में सूरज की सीधी किरणों से कुछ सुरक्षा की आवश्यकता होती है। जहां तक ​​संभव हो, पौधों को ऐसे स्थान पर ले जाया जाना चाहिए, जहां उन्हें केवल सुबह और शाम को ही सूरज की सीधी रोशनी मिले। बड़े पौधों के मामले में ओवरहेड नेट का शेड प्रदान करने का प्रयास करें।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: